programme

Sanjhi Sanskriti aur Hindustani Kavita

Home/ Sanjhi Sanskriti aur Hindustani Kavita
Course TypeCourse CodeNo. Of Credits
Foundation ElectiveSGA1FC1144

Semester and Year Offered: Monsoon semester, BA first year

Course Coordinator and Team: Awadhesh Tripathi

Email of course coordinator: awadhesh@aud.ac.in

Pre-requisites: None

Course Objectives/Description:

मध्यकालीन भारतीय समाज का एक विशिष्ट किंतु जीवंत यथार्थ ‘इंडो-इस्लामिक’ संस्कृति की मौजूदगी है। इस संस्कृति के चिन्ह साहित्यिक रचनाओं में दृष्टिगोचर होते हैं। ये साहित्यिक रचनाएँ कविता के क्षेत्र में सबसे अधिक फलित हुईं जिसे इनकी सामासिकता का ध्यान रखते हुए हिंदुस्तानी कविता का नाम दिया गया। इस सृजनात्मक उपलब्धि से दिल्ली के विद्यार्थी सहज ही परिचित होते हैं क्योंकि इनके रचनाकार दिल्ली और उसके आस-पास रचनारत रहे हैं। इस क्षेत्र में लम्बे समय तक चलने वाली इस गतिविधि के कुछ नमूनों और उनके ज़रिए उस समूची संस्कृति का परिचय इस पाठ्यक्रम के माध्यंम से विद्यार्थियों को कराया जाता है।

Course Outcomes:

विद्यार्थियों को दिल्ली की सामासिक संस्कृति से परिचित कराना।

साहित्यिक रचनाओं के ज़रिए हिंदी समाज की सांस्कृतिक विविधता के पार्टी विद्यार्थियों को सम्वेदनशील बनाना।

दिल्ली के सामाजिक जीवन में मौजूद साझी संस्कृति को उजागर करना और उसका महत्व प्रकाश।

‘इंडो-इस्लामिक’ संस्कृति से उपजी हुई भाषा से विद्यार्थियों को परिचित कराना।

Brief description of modules/ Main modules:

माड्यूल 1:

सामासिकसंस्कृति

हिंदुस्तान साझी संस्कृति कि अद्भुत मिसाल है | भारतमेंइस्लामकेआगमनकेसाथस्थानीय आबादीकेमिलनेसेजनताकेभीतरएकविशेषक़िस्मकेसांस्कृतिकमाहौलकानिर्माणहुआ।उससंस्कृतिकोसमझनेकेलिएआमतौरपरसामासिकसंस्कृतिकानामदियागयाहै।इसकीविशेषतायहथीकिनतोयहमिश्रितसंस्कृतिथी, नहीसांस्कृतिकआदान-प्रदानकीइसकाआधारथाबल्किस्थानीयआबादीकेधर्मऔरइस्लामधर्मावलंबीजनताकेसांस्कृतिकव्यवहारकीसामन्यतानेमिलकरएकनईसंस्कृतिकाप्रादुर्भावहुआ।सामासिक संस्कृति को साहित्य के कवियों ने बखूबी अपनी रचनाओं में स्थान दिया है | धार्मिक सद्भाव कि भावना से ओत-प्रोत ये कवि सभी सीमाओं का अतिक्रमण कर एक दूसरे के यहाँ मनाये जाने वाले त्योहारों आदि का चित्रण बड़े ही मोहक ढंग से करते नजर आते है जो साझी संकृति कि मिसाल बन जाते है

माड्यूल 2:

दिल्लीकासमाजऔरसाझीसंस्कृति

दिल्लीसांस्कृतिकअंतरलयनकाकेंद्ररहीआयीहै।नकेवलहिंदुस्तानीकविताएकअधिकांशरचनाकारदिल्लीवासीरहेहैंबल्किदिल्लीकीसांस्कृतिकधरोहरकेबड़ेहिस्सेकानिर्माणभीइन्हींरचनाकारोंसेजुड़ेहुएस्थानोंऔरस्मृतियोंसेहुआहै।वस्तुतःअधिकांशकलारूपोंऔरस्थापत्यआदिमेंइससाझीसंस्कृतिकीअनुगूँजक़दम-क़दमपरमौजूदहै।विद्यार्थियोंकोइसमाड्यूलमेंदिल्लीआधारितइनचीज़ोंसेफ़ील्डट्रिपकेज़रिएभीपरिचितकरायाजाएगा।

माड्यूल 3:

साझीसंस्कृतिकेदिल्लीवासीकवि

अमीरखुसरो [सकलबनफूलरहीसरसों, आजरंगहैरीमाँरंगहैरी, छापतिलकसबछीनीवअन्य],

मीरतकीमीर [पत्तापत्ताबूटाबूटा, देखतोदिलकेजाँसेउठताहै, हस्तीअपनीहुबाबकीसीहै],

ग़ालिब [नुक्ताचींहैगमेदिल, कोईउम्मीदबरनहींआती, हजारोंख़्वाहिशेंऐसी],

रहीमकेचुनिंदादोहे।

माड्यूल 4:

साझीसंस्कृतिकेअन्यकवि

कबीर [हमनहैइश्क़मस्ताना, दुलहिनिगावहुमंगलचारऔरचुनिंदादोहे],

रसखान [यालकुटीअरुकामरिया, मोरपखासरऊपरराखिहौं, सेसमहेसगणेसदिनेस, मानुसहौंतोवहीरसखान]

नज़ीर [रोटीनामा, ब्याहकान्हाका, कन्हैयाजीकीहोली, तिलकेलड्डू],

बुल्लेशाह [बुल्लाकीजाणामैंकौन, बुल्लेनूसमझावनआइयाँ, रांझारांझाकरदीनीमैं],

वलीदकनी [साजनतुमसुखसेतीखोलोनक़ाबआहिस्ताआहिस्ता ,जादूहैतेरेनयनग़ज़लसूँकहूँगा

Assessment Details with weights:

  • In-class tests/ Quiz 10%
  • Mid-Semester Exam 40%,
  • Project (Preparation+ Presentation + Report) 30%
  • End-Semester Exam 20%

Assessment exercises and their weighting may change.

Reading List

  • विश्वरंजन ,"कुछ गमें जानां कुछ ग़में दौरा, यश पब्लिकेशन, दिल्ली,2012.
  • नारंग ,गोपीचंद ,”अमीर ख़ुसरो का हिन्दवी काव्य”,वाणी प्रकाशन ,दिल्ली ,2002 .
  • चोपड़ा,सुदर्शन “अमीर ख़ुसरो”,साहित्य संगम,दिल्ली,1989.
  • उमर,मुहम्मद,”भारतीय संस्कृति का मुसलमानों का प्रभाव”,प्रकाशन विभाग ,सूचना प्रसारण मंत्रालय ,भारत सरकार ,1996.
  • राय,गोपाल ,सांकृत,सत्यकेतु,:उन्नीसवी शताब्दी का हिंदी साहित्य “,दिल्ली
  • लाल ,कृष्णचन्द्र,"उर्दू कविता का विकास",भवदीय प्रकाशन ,फैज़ाबाद,1997
  • अग्रवाल,पुरुषोतम,”कबीर साखी और सबद”,नेशनल बुक ट्रस्ट ,2007.
  • चन्द्र शोभा,सावित्री ,”हिंदी साहित्य में सामाजिक मूल्य एवम सहिष्णुतावाद” नेशनल बुक ट्रस्ट ,2007.
  • दुग्गल ,करतार ,”धर्मनिपेक्ष धर्म”, नेशनल बुक ट्रस्ट ,2006.
  • चंद,सुभाष,”सांझी संस्कृति की विरासत”,आधार प्रकाशन ,हरियाणा,2011.
  • अहमद,इकबाल,”सांस्कृतिक एकता का गुलदस्ता, प्रकाशन विभाग ,सूचना प्रसारण मंत्रालय ,भारत सरकार ,1993.
  • अलीम,अब्दुल,”नजीर अकबराबादी और उनकी विचारधारा”,वाणी प्रकाशन,दिल्ली,1992.
  • दिवेदी,हजारी प्रसाद,”कबीर”,राजकमल प्रकाशन.
  • स्नातक,विजेन्द्र “रहीम”,साहित्य अकादमी,दिल्ली .
  • माचवे,प्रभाकर,”कबीर”,साहित्य अकादमी ,दिल्ली,1984
  • दिल्ली और हिंदी साहित्य ,सचिव ,हिंदी अकादमी ,दिल्ली

विभिन्न लेख -;

  • सज्जाद जहीर-“साजेदारी को बाधित करने वाला मसला”(हिंदी –उर्दू साझा संस्कृति,संपादक-मुरली मनोहर प्रसाद सिंह,चंचल चोहान ,कांतिमोहन )नेशनल बुक ट्रस्ट ,2011
  • सलिल मिश्रा –“साझा अतीत खंडित वर्तमान “”(हिंदी –उर्दू साझा संस्कृति,संपादक-मुरली मनोहर प्रसाद सिंह,चंचल चोहान ,कांतिमोहन )नेशनल बुक ट्रस्ट ,2011
  • भीष्म साहनी “हमारी साझी संस्कृति का ताना-बाना”(संपादक-पल्लव )
  • सत्यकेतु सांकृत “साझी संस्कृति का प्रथम हिंदी कवि नजीर ,हिंदी समय पर उपलब्ध